Saturday, 1 February 2014

The key of success-सफलता के मूल मंत्र- personal development article in Hindi



सफलता के मूल मंत्र

key  of success

The key of success

Friends मैं अपने personal development page के अंतर्गत आज एक नया topic ले कर आयी हूँ “सफलता के मूल मन्त्र” । आज school, colleges और society में youth के सामने सबसे बड़ी समस्या होती है सफलता-- कोई अपने result में best करने के लिए जूझ रहा है तो कोई अपनी job - life में higher post तक न पहुँच पाने में depression में जा रहा है । तो कोई सपने न सच कर पाने के कारण suicide के पथ पर कदम रखने चला है । आज का youth सस्याओं का सामना करने के बजाये उससे मुँह छिपाता है जिसका नतीजा बड़ा ही भयंकर आता है ।  

आज मैं इस article के अंतर्गत मैं उन points को discuss करने जा रही हूँ जिस को अपना कर students and younger अपने targeted goal तक पहुँचने में सफल हो सकते हैं। और अपने destination पर पहुँच कर एक happy life को enjoy कर सकते है ।

The key of success

कार्य करने का कारण (Work Reason)- किसी भी कार्य में success पाने का basic key ये है की आप जो भी कार्य करना कहते हैं या करने जा रहे हैं उसके प्रति आप का नजरिया साफ़ होना चाहिए । उससे करने और न करने का कारण आप के मन में clear होना चाहिए कि उसे आप कर क्यों रहे हैं । अर्थात् first decide to your work or goal.

सकारात्मक और नकारात्मक पहलू (The positive and negative aspects)- आप जो भी काम करने जा रहे हैं उसके positive and negative aspects को अच्छे से पता कर ले ताकि बीच में इसके negative aspects के कारण आप को अपना काम या goal change न करना पड़े और ना ही आप हतोत्साहित हो । जैसे यदी आप b.tech करने जा रहे हैं तो math और science में आप की पकड़ अच्छी हो और जिस stream में आप करने जा रहे है उसकी current market value क्या है । गर आप ये पता नहीं करते तो हो सकता है B.tech की degree आप की बीच में ही छूट जाये या आप के लिए बेकार साबित हो । 

क्षमता(Ability)- किसी भी कार्य या क्षेत्र में सफल होने के लिए आप का अपनी क्षमताओं के प्रति सजग होना जरूरी है । आप को अपनी क्षमता की पहचान होनी चाहिए कि आप किस क्षेत्र को चुने । जैसे यदी आप को market की समझ है और accounting में आप की पकड़ अच्छी है तो आप अपने graduation में B.A के स्थान पर B.com या B.B.A चुनिए। आप को सफलता अवश्य मिलेगी । 
so, firstly judge your Capability then choose your goal.  

दृढ़ निश्चय (firm determination)-  जब आप अपनी life का goal चुन ले तब उस तक पहुचने के लिए आप को दृढ़ निश्चयी होना जरूरी है । जितना आप अपने लक्ष्य तक पहुचने के प्रति determinate होंगे, उतना लक्ष्य तक पहुचना आसान हो जायेगा ।

एकाग्रता (concentration)- किसी भी कार्य को पूरा करने के लिए एकाग्रता बहुत जरूरी है । जितना concentrate हो कर आप अपने लक्ष्य के प्रति समर्पित होंगे, उतना ही लक्ष्य आप के करीब पहुचेगा।

friends, अंत में इतना ही कहूँगी की सफलता प्राप्ति के इन मन्त्रों को यदी आप अपनाएंगे तो निश्चय ही आप अपने निर्धारित destination तक अवश्य पहुचेंगे

“सफलता के दो ही मूल मंत्र हैं- दृढ़ निश्चय और एकाग्रता ।”


Friend’s, आप को मेरी, The key of success” personal development and motivational article in Hindi में कैसा लगाक्या ये article आप सबकी life (personality) में positivity ला सकने में कुछ सहयोगी हो सकेगी, if yes तो please comments के द्वारा जरुर बताये ।  


One Request: Did you like this personal development and motivational article in Hindi? If yes, become a fan of this blog...please

Related post