Monday, 27 January 2014

Personal Development Article in Hindi-- How to control anger, when came close to him?


जब क्रोध आये तब उसे कैसे नियन्त्रित करें?
Anger face show your  negative personalty  
How to control anger, when came close to him?  
सफलता के स्वप्न सब लोग सजोंते हैं । कुछ लोग सिर्फ सफलता का स्वप्न देखते हैं । जबकि जागरूक व्यक्ति अपने लक्ष्य की सफलता के प्रति सजग रहते हैं और सफलता के लिए कड़ी मेहनत करते हैं। पर सफलता की प्राप्ति में क्रोध सबसे बड़ी बढ़ा होती है ।

आप चाहे जितने भी talented हो, चाहे जितने भी loving body हो या चाहे जितनी भी pleasant personality हो पर यदी क्रोध आप कि personality का हिस्सा है तो आप चाहे जितनी भी कोशिश कर लें सफलता आप से दूर रहेगी, यदी आप success पा भी गये तो वो टिकी नहीं रहेगी ।    

किसी को भी क्रोध आना एक आम बात है, पर इस कोढ़ के कारण अपना और दुसरो का बहुत नुकसान होता है । लेकिन इस क्रोध के कारण दूसरों का कम और अपना ज्यादा नुकसान होता है इसलिए अपने आप को नियंत्रित करना बहुत ही आवश्यक है । क्रोध आप की personality पर बुरा असर डालता है । आप चाहे जितने अच्छे हो, या जितने भी लोगों के लिए helpful हो यदी आप को क्रोध आता है तो आप किसी के भी Favorites नहीं बन सकते । इसके लिए आप को अपने क्रोध को नियंत्रित करना ही होगा ।

जब आप को क्रोध आये तब क्या करें —
Ø क्रोध को जीतना आसान नहीं है पर मौन इसे जीतने का सबसे आसान तरीका है। अर्थात् जब हमें किसी पर क्रोध आये तो हमें शांत और मौन हो जाना चाहिए । और उस बात को थोड़े समय के लिए टाल देना चाहिए जिसके कारण क्रोध आने की स्थिति पैदा हुई हो और जब क्रोध शांत हो जाये तब उस बात पर विचार करना चाहिए और उस problem को solve करने के method ढूढने चाहिए ।
Ø क्रोध को नियंत्रित करने का एक तरीका यह है की जिस घटना के कारण आप को क्रोध आया है उसे अपने नजरिये की जगह दूसरो के नजरिये से भी देखें । तब आप कुछ हद तक वस्तुतः परिस्थिति को समझ सकेगें और उसके निवारण का उपाय ढूंढ पायेंगे ।
Ø लोगों कि गलतियों के लिए उनको क्षमा करने की आदत डाले । जिस प्रकार जब हम स्वयं कोई गलती करते हैं तो यही चाहते है कि सामने वाला इस बात को भूल जाये और हमे क्षमा कर दे उसी प्रकार आप भी दूसरे कि जगह खुद को रख कर देखे और क्षमा करने की आदत डालें।
Ø दूसरों को क्षमा करने में जहाँ आप को स्वयं में अच्छा महशूस होगा, वही आप के आस –पास के लोगों में आप के प्रति respect बढेगी। आप लोंगों के बीच popular होंगे ।   
Ø स्वयं को कल्पनाओं में नहीं वास्तविकताओं में जीने को प्रेरित करें
Ø क्रोध का एक कारण अव्यवहारिक इक्षाओं का होना । जीवन की मूल आवश्यकताओं को समझें व उनको पूरा करने के लिए मेहनत करे न कि शेख चिल्ली कल्पनाओं व अव्यवहारिक इक्षाओं की पूर्ति के लिए । क्योंकि जब इन इक्षाओं कि पूर्ति में असफलता मिलती के तो हमारे अहं को ठेस लगती है और हम क्रोधित होते हैं ।
Ø अपने आप को कभी दूसरों से न तो तुच्छ समझे और न ही दूसरों से सर्वोपरी क्योंकि जो व्यक्ति स्वयं को अपनी ही दृष्टि में तुच्छ मानता है , वही वस्तुतः तुच्छ है । और जो सिर्फ स्वयं को ही श्रेष्ठ मानता है और किसी कारण जब उसका जब अहं पोषित नहीं होता तो क्रोध आने कि स्थिति पैदा होती है । ये दोनों ही स्थितियां आपकी personalty को बाधित करती हैं ।

आप को personality development पर ये article कैसा लगा ? कृपया कमेंट्स के द्वारा जरूर बताएं । यदी आप को पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ share भी करें ।
अंत में धन्यवाद् !

 Related Links